Sunday, June 26, 2011

कुछ भींगे पल...


तुम्हारी कमी आज भी कमी रह गई,
जिंदगी अधूरी कि अधूरी रह गई,
बरसात में भींगे पत्तो कि तरह ,
आँखों में कुछ नमी रह गई,
न आओगे इसका इत्मीनान है हमे,
फिर भी दिल के कोने में तुम्हारी चाहत रह गई...

1 comment:

  1. WHO WII FILL YOUR HEART. HOW CAN SOMEONE WIN YOUR HEART

    ReplyDelete